मेरी भाभी की सेक्सी बहन को चोद लिया

दोस्तों मेरा नाम जतिन हे रेलवे में जॉब करता हूँ और वो दिखने में हट्टा कट्टा हूँ. मैं अपनी फेमली के साथ साउथ दिल्ली में रहता हूँ. दोस्तों ये सेक्स की कहानी तब की हे जब मेरी शादी नहीं हुई थी और मेरी पोस्टिंग मुजफ्फरनगर में हुई थी. और रेलवे की तरफ से मुझे क्वार्टर मिला था रहने के लिए. क्वार्टर रेलवे स्टेशन से एक किलोमीटर से भी कम फासले पर था. और उन दिनों मेरे बड़े भाई दिनेश की पोस्टिंग भी उसी स्टेशन में हो गई. मेरे कहने पर दोनों भाई एक ही क्वार्टर में रहने लगे.

दोस्तों अब मैं आप को अपनी भाभी के बारे में बताता हूँ. उनका नाम हंसिका हे और वो दिखने में एकदम मस्त हे. उसका गोरा चिट्टा जिस्म हे और कथ्थई सेक्सी आँखे. उनके रसीले होंठो और सेक्सी फिगर को देख के बदन के अन्दर चुभन सी होने लगती हे. सच में भाभी एकदम पटाखा माल हे.

मैं अपनी भाभी को बहोत देखता रहता था. उनके कातिलाना बदन ने मुझे दीवाना बना दिया था और मेरे होश ही नहीं रहते थे! मैं अजीब कशमकश में उलझा हुआ था. लंड का खुमार कहता था की जा अपनी हंसिका भाभी की बुर में अपना लंड डाल दे. और घर के संस्कार मुझे ऐसा करने से रोके हुए थे! और भाभी की तरफ से भी मुझे कोई इशारा नहीं मिल रहा था. वैसे मैं भाभी के साथ मजाक मस्ती कर लेता था पर उस से अधिक कभी कुछ नहीं हुआ.

वैसे भैया और भाभी की शादी को अभी नयी नयी ही कह सकते हे. ऐसे में चद्दर बदलने के का यानी की चोदने का कार्यक्रम जोरो शोरो पर ही होता हे. हंसिका भाभी और भैया के कमरे से रात को अह्ह्ह्ह अह्ह्ह की आवाजे आती रहती थी. मैं जब ये आवाजे सुनता था तो अपने लंड को पुचकार के बिठा देता था और मन ही मन जल उठता था. मेरा मन भी चोदने को करता था पर मेरे पास कोई गर्लफ्रेंड भी नहीं थी जिसके साथ मैं ऐसे कर सकता था. मैं तो बस खुद ही अपने हाथो से मुठ मर के खुद को शांत कर लेता था.

ऐसे ही समय चलता गया और काफी समय चले जाने के बाद आखिर मेरी किस्मत ने पलटी मारी और मेरी जिंदगी में तब कोई आया, मेरी भाभी की छोटी बहन जिसका नाम किंजल हे और वो मेरी भाभी से सिर्फ दो साल छोटी हे और दिखने में तो वो भाभी की पूरी नक़ल हे हे. वो अपने बी.ए. फायनल के एक्साम्स के लिए यहाँ आई थी. भाभी के पापा ने भाभी को कॉल किया की हंसिका बेटी किंजल आ रही हे ट्रेन से उसे लेते आना.

भाभी के पापा कानपुर में रहते हे. वैसे वो लोग यही पर रहते थे लेकिन भाभी के पापा का तबादला हुआ तो वो लोग कानपूर चले गए. लास्ट इयर थे इसलिए किंजल ने कोलेज नहीं बदला और वो एक्स स्टूडेंट के तौर पर सिर्फ एक्साम्स देने के लिए यहाँ आती थी.

मेरे भैया भी काम के लिए बहार थे और घर में सिर्फ मैं ही मर्द था तो मैंने भाभी से बोला, भाभी किंजल की ट्रेन साढ़े तिन या चार बजे आएगी और मेरी भी ड्यूटी वही पर तिन बजे तक की हे तो मैं ही उसे ले आऊंगा. भाभी ने कहा बहुत बढ़िया हे ये तो, मुझे आने की जरूरत नहीं पड़ेगी तुम हो तो.

मैं अपनी ड्यूटी खत्म कर के 3 बजे फ्री हो गया और बाद में पता चला की आगे बारिश थी इसलिए ट्रेन लेट हो गई थी. ट्रेन 4 घंटे देरी से चल रही थी. मैं स्टेशन पर ही अपने दोस्तों के साथ गप लगाने बैठ गया. और यहाँ भी बारिश का मौसम बनने लगा था. काले बादल छा गए और कुछ ही देर में बारिश चालु भी हो गई. साढ़े 6 बजे तो बारिश एकदम तेज थी. साथ ही में ठंडी ठंडी तेज हवा भी चल रही थी.

और फिर कुछ ही देर में किंजल वाली ट्रेन भी आ गई. मैं उसकी बोगी के पास गया और अन्दर देखने लगा. तभी मैं इस सेक्सी लड़की को देखा जिसने अपनी कमर के ऊपर दुपट्टा बाँधा हुआ था और उसके हाथ में एक बेग था. चहरे के ऊपर काफी चेंज आ गया था उसके लेकिन मैं उसे पहचान ही गया. वो मेरी सेक्सी भाभी की हॉट बहन किंजल ही थी. मैंने उसे दो सालों के बाद देखा था और अब वो किसी फिल्म की हिरोइन के जैसी सेक्सी लग रही थी.

बारिश अभी भी अपने जोर पर ही थी. मैंने किंजल को स्टेशन के केफेटरिया में कोफ़ी पिलाइ और फ्रेंच फ्राइज खिलाई. उतने में बारिश का जोर कम हुआ. उसने कहा घर कैसे जाना हे. मैंने कहा मैं तो बाइक ले के आया था. वो बोली चलो उसके ऊपर ही फिर. मैंने कहा, बारिश हे लेकिन. वो बोली कम हो गई हे और भीग भी लेंगे वो बहाने से.

मैंने बाइक निकाली और किंजल मेरे पीछे बैठ गयी. किंजल के पास एक बहुत बड़ा बेग था जिसको मैंने अपनी जांघो के ऊपर रखा था और वो मेरे पीछे बैठी हुई थी. उसने बेग को एडजस्ट किया. लेकिन बेग काफी बड़ा था तो उसने कहा, आगे आप को मोड़ने में तकलीफ होगी ना!

मैंने कहा, हां एक काम करते हे तुम्हारे पीछे बाँध देते हे इसको.

किंजल को बैठा के मैंने बाइक को मेन स्टेंड पर की. पीछे एक रस्सी आलरेडी बंधी हुई थी मेरी बाइक में. मैंने बेग को पीछे बाँधा. और फिर स्टेंड निचे कर के मैं आहिस्ता से बाइक पर चढ़ा. अब बेग के आने से बाइक के ऊपर उतनी जगह नहीं थी. किंजल मेरे से एकदम चिपक के बैठी हुई थी! मैं पेट्रोल की टंकी के ऊपर था आधा फिर भी उसके कडक निपल्स मेरी पीठ में चिभ रहे थे. और फिर मैंने बाइक चला दी. किंजल बहुत कोशिश कर रही थी की उसके बूब्स मेरी पीठ को ना छुए. लेकिन बारिश की वजह से रास्तो के ऊपर पानी भरा हुआ था और बार बार ब्रेक लगने से वो मुझसे लड़ जाती थी. मैं भी ब्रेक लगाने को एन्जॉय कर रहा था.

तभी वो काँप सी रही थी. मैंने कहा, ठंडी लगी हे क्या आप को?

किंजल: हां बारिश की वजह से शायद!

कुछ ही देर में हम घर पहुंचे. कपडे चेंज कर के भाभी के हाथ की कडक चाय पिने लगे हम लोग. किंजल थक गई थी इसलिए वो आराम के लिए चली गई और मैं भी अपने काम में लग गया. भाभी रसोईघर में थी.

मेरे अन्दर वासना का कीड़ा कुलबुला गया था. और मुझे पता नहीं था की किंजल के अन्दर भी कुछ ऐसी फिलिंग थी या नहीं! ना ही मुझे नींद आ रही थी ना ही मेरा ध्यान लग रहा था कही पर. मेरी आँखों के सामने बस किंजल की सेक्सी फिगर और उसका हसीन चहरा आ रहा था बार बार!

अब तो दोस्तों मैं ही उसे एग्जाम के लिए छोड़ने के लिए और उसके पेपर ख़त्म होने पर लेने जाता था. और वो बड़ा ट्राय करती थी की उसका बदन मेरे से टच ना करे. पर मैं ऐसे रस्तो से बाइक निकालता था की ब्रेक की आवश्यकता रहे और उसका बदन मुझे टच करता रहे! मुझे उसके बूब्स का टच अपनी कमर में होने पर बड़ा सेक्सी फिलिंग होता था.

ऐसे ही एक दिन मैं उसे पेपर के लिए छोड़ने जा रहा था. मेरा मन बार बार कर रहा था की किंजल को अपने दिल की बात कह ही डालूं!

मैं: किंजल अब तो सब मेन पेपर हो गए हे तुम्हारे?

किंजल: हां, बस अब सब इजी पीजी बचे हे!

मैं: तो फिर चलो मेरे साथ घुमने के लिए!

किंजल वैसे वो अब मेरे साथ घुलमिल गई थी और हमारी बातचीत भी बहोत होई थी इसलिए उसने मुझे मन नहीं किया. उसकी हाँ सुनते ही मेरे दिल में जैसे म्यूजिक बजने लगा था. और मैं उसी शाम को उसे ले के पार्क में चला गया. पार्क की हरियाली में हम दोनों बैठे हुए थे. फिर मैं और किंजल टहलने के लिए निकल पड़े पार्क के अन्दर ही. मैं जानबूझ के उसकी जांघ को टच कर लेता था चलते चलते और वो कुछ भी नहीं कहती थी.

तभी किंजल ने कहा: चलो ना कोफ़ी पिने चलते हे.

अब मैं उसको ले के बगल की एक रेस्टोरेंट में गया. वहां पर फेमली केबिन बनी थी उसके अन्दर हम चले गए क्यूंकि वहां पर अकेले में मजा आना था मुझे. हम दोनों एक साथ बैठे और वेटर के जाते ही किंजल ने मेरा हाथ अपने हाथो में ले लिया और मैंने भी अपना दूसरा हाथ उसके हाथ के ऊपर रख दिया. अब मुझे लगा की मछली फंसी थी. किंजल का बदन काँप रहा था.

मैंने कहा, क्या हुआ?

वो बोली: मैं तुमसे एक बात कहना चाहती हूँ!

मैं: हा बोलो ना!

किंजल ने मेरे हाथो को जोर से दबाते हुए बोला, मैं तुम्हारे साथ रहकर कुछ अलग फिल करने लगी हूँ!

ये कहते ही उसने मेरे हाथ पर किस दी और मैं तो ख़ुशी के मार जैसे पागल हो गया. और मुझे शायद उसकी तरफ से सिग्नल मिल गया था की हम कुछ कर सकते हे!

फिर मैंने उसके होंठो को अपन करीब किया और चूसने लग गया. उधर किंजल भी मेरे रसीले होंठो का सवाद ले रही थी और बड़े मजे से हम दोनों करीब पांच मिनिट तक एक दुसरे को किस करते रहे.

उतने में हमारा ऑर्डर भी आ गया और हमने दोसा ऑर्डर किया था वो हम खाने लगे. बहोत ही मस्त लग रहा था. और फिर हमने खा कर कोफ़ी पी और फिर वहां से घर आ गए. घर पर भी हमें जब भी मौका मिलता था हम एक दुसरे के होंठो को चूस लेते थे और एक दुसरे के जिस्म को छू भी लेते थे जिस से हमारे अंदर गर्मी आ जाती थी. पर हमें अभी तक ऐसा नहीं मिल रहा था!

पर कहते हे न की ऊपर वाले के पास देर हे लेकिन अंधेर नहीं हे. हमारे साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ क्यूंकि की भैया के किसी ऑफिसर की पार्टी में भैया और भाभी को जाना था. भैया तो थे नहीं इसलिए भाभी अकेली ही चली गई पार्टी में. उन्होंने मुझे कहा लेकिन मैंने कहा की मेरा आमन्त्रण नहीं हे फिर मैं नहीं आ सकता हूँ और किंजल ने भी वही कहा अपनी बहन को.

भाभी के जाने के बाद तो मैं और मेरी ये नयी माल किंजल ही घर पर थे. मैं भाभी के जाने के बाद किचन में किंजल के पास चला गया जो हम दोनों के लिए खाना बना रही थी. मैंने उसे पीछे से ही पकड़ लिया और उसकी गर्दन के ऊपर किस करते हुए चाटने लगा.

किंजल: अरे बाबा खाना तो बना लेने तो फिर आज भूखे सोना हे!

मैं खड़े लंड को ले के बहार गया और टीवी देखने लगा. करीब आधे घंटे के बाद किंजल खाना ले आई और हम दोनों ने एक साथ बैठ कर खाना खाया और फिर अपने कमरे में आकर लेट गया और किंजल बर्तन धो कर मेरे लिए दूध ले के आई और मेरे पास खड़ी हो के अपने हाथ से मुझे दूध पिलाने लगी.

किंजल मेरी आँखों में देख रही थी और मैंने उसके होंठो को अपने होंठो में भर लिए और चूसने लगा. फिर हम डॉन ने अपने कपडे उतारे और मैं तो उसके चिकने बदन को उसके बूब्स को देखता ही रह गया.

अब किंजल ने एकदम से मेरे लंड को हाथो में ले लिया और वो उसे चूसने लगी. मेरा तो कब खुद पर से कंट्रोल चला गया वो भी पता नहीं चला. किंजल कस कस के मेरे लंड को मजे से चूस रही थी. फिर मैंने किंजल को बिस्तर पर लिटाया और उसकी चूत के पास आ कर उसकी चूत को पहले तो मैं निहारने लगा और फिर मैंने एक पप्पी दे दी उसके ऊपर. किंजल सिहर उठी और उसने आह निकाली. और फिर मैंने किंजल की चूत को खोल के चाटना चालू कर दिया. अब किंजल ने मुझे ऊपर किया और मैं उसके होंठो को चूस के फिर उसके बूब्स को मुहं में भर के चूसने लगा. किंजल की चूत पर लंड लग रहा था जिसको किंजल ने पकड़ के चूत पर सेट किया और मुझे धक्का लगाने को कहा. मैंने उसकी बात मान ली और धप्प से थोडा लंड अन्दर हो गया और उस समय किंजल के चहरे के ऊपर दर्द नजर आने लगा.

मैं: दर्द हो रहा हे क्या?

किंजल: इतना दर्द तो होता ही हे, मैं सहन कर लुंगी तुम लंड डालो अंदर.

मैंने किंजल के कंधे के ऊपर किस दे दी और उसकी चूत में एक और धक्का लगा दिया अपने लंड का और पूरा लंड उसके अन्दर कर दिया. किंजल ने जरा भी चीख नहीं निकाली लेकिन उसकी आँखों में पानी भर आया था और वो बार बार अपने होंठो को दांतों के तले दबा के दर्द का इजहार बिना कुछ बोले ही कर रही थी.

मैंने लंड को बहार निकाल लिया क्यूंकि मुझसे किंजल का दर्द देखा नहीं जा रहा था पर किंजल तो बहार ही नहीं निकालने दिया और बोली, पागल दर्द तो होगा ना तुम करते रहो.

मैं उसकी सेक्सी टाईट चूत को चोदता रहा और कुछ देर बाद उसें भी अपनी कमर को हिलाना चालू कर दिया जिससे मैं समझ गया की किंजल को भी मजा आ रहा था. सच ही कहते हे लोग की दुनिया की सारी ख़ुशी एक तरफ और चुदाई की ख़ुशी एक तरफ!

हम दोनों करीब 10 मिनिट तक चोदते रहे एक दुसरे को. फिर एकदम से किंजल का शरीर अकड सा गया और उसकी चूत में से पानी निकलने लगा. और वो ढीली भी पड़ गई थ. पर मेरी तो अभी हिम्मत थी की मैं उसे कुछ देर और चोदुं! इसलिए मैं उसकी चूत को अपने लोडे से ठोकता ही रहा.

किंजल बोली, जतिन मैं घोड़ी बन जाऊं?

मैंने कहा, हां वो ठीक रहेगा.

किंजल अपने चूतड़ उठा के मेरे लिए घोड़ी बन गई. मैंने पीछे से उसकी चूत में अपना लंड डाला और उसको चोदने लगा. वो भी अपनी गांड को पीछे मार रही थी मेरे लंड के ऊपर ऊपर और उसके मुहं से अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह याआअ आह्ह्ह्ह अह्ह्ह उईईइ अह्ह्ह्ह निकल रहा था. मैंने अपने दोनों हाथों से उसकी गांड को सहलाया और उसने भी मुझे देख के आँख मारी.

मेरे हाथ उसके बूब्स और निपल्स को छूने लगे थे. तभी मेरे बदन में भी झटका लगा. खून के साथ वीर्य दौड़ने लगा जैसे नसों के अन्दर. और मैंने अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह कर के लंड को चूत से बहार निकाल के उसका पानी किंजल की गांड और उसकी कमर के उपर ही छोड़ दिया. मैं निढाल हो के उसके ऊपर ही गीर गया. और हम दोनों एक दुसरे को हाथो से सहला रहे थे.

भाभी के आने से पहले हमने एक बार फिर से चुदाई की. और अब की तो नियन ने मेरी गोदी में चढ़ के मेरे लंड को लिया और खूब मरवाई अपनी.

किंजल के एक्साम्स ख़तम हुए फिर भी वो हंसिका भाभी को कह के कुछ दिन यहाँ रुक गई. मैं उसे होटल में ले जाता था घुमाने के बहाने से और चोद लेता था. फिर वो चली गई!

अक्सर वो अपनी बहन को मिलने आ जाया करती थी. या यूँ कहे की मेरा लंड लेने ही आती थी वो यहाँ पर. फिर भैया की बदली हो गई और किंजल से मेल मिलाप फंक्शनस में ही होता था. दो साल पहले उसकी शादी हो गई. लेकिन आज भी उसको याद करता हूँ तो बीवी के घर में होने के बावजूद भी उसके नाम की मुठ मारनी पड़ती हे मुझे.

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age



Virgin choot me bhaiya ne land ghusaya sex kahaniBhudhe arut ko jvan ladke ne choda antarvasnaमै 18 का गांडू लडका हूँ गे कामुकता wwwfamily sex kahanijija salidoodhsexy hindi sexy storyबस में पीछे से सहलाना महसूस कहानीमैं चुदने लगीmaa Papa mossa aur mossi ke sath milker Chudhi ki khani Hindi meमम्मी को Facebook friend बना के chudaihindi font chudai storyindian hindi sex storewidhwa mummy ki randipanapni maa ki gand mariindianpornstoriessaas jamai ki chudaihindi erotic storieshimdi sexy storychoot ka rasfamily hindi sex storyऑफिस वाले आदमी ने मम्मी कि चुदाईचुदने का बहाना बनायाGf ne uske saheliko cudvayagay chudai ki kahaniantarvasna papa or thai kixxx sexy story hindimama bhanji ki chudaichut me keladadi ko peshab karte samay dekha chut.phir choda.Abbu Jaan aur Khala aur mausi ke sath sex Mein kahaniक्या आप मुझे एक बार अपनी चुत देखने डौगीantarvasna mausi ki chudaisexy chut ki kahaniManju bhabhi ne hastmetun kiyasex story hindi momमजदूरन की चुत ठेकेदार ने चोदाboss ke dosto ne gangbang kiyasagi sister ki chudaikamukta vidhwa taimosi ki chudai kahanihindi chudai ke jokesbkt red ru sex story hindichoti mausi ki chudaichut may tal lagarkar storyरिश्तो में देसी गैंगबैंग सेक्स स्टोरीmummy beta pela peli ki kahani hindi me padhna haixxxx pornkahani holibeta ko bchane ke liye me uska land chusi sex story hndiEk sath 4 lund ne mere maze liye hindi lons storygirlfriend ki maa ki chudaiantarvasna makan malik ne saree utar kar nabhi ko chodabhatijachudaikahanisaadisuda saali ki chudai ki khubsurat kahani in hindi 2019 Januaryall hindi sex storysaas ki chutmausi ko choda hotel mstories crossdressinghindi chudai ke chutkulemami ko ajnbi ne chodajaan bachane ke liye family se sex chudai ki hindi storieskamla ki chudai storyNokrani ka gangbang kiya sex stories14 साल गांडू लडके का गे कामुकता Wwwwww sex stores comकजिन ने कहा हमने चोदागद्दे पर सोई मामी की गांड धीरे से मारीbhai bahan sexy story in hindishital ko chodamummy ki saheli ki chudaiरंडी आंटी चुदाइ कहानीKale sand ne jabrjasti choda hindi sax khaniyateacher ki gand marimausi ki beti ki chudaiRandi ma ki gand ke bde shade ko dekhkar hairaan ho gya hindi sex storydesi sexy story hindibhai ne sote hue gand mariHoli par do Lund se chudai threesome sex storyसौतेली माँ की अँधेरे में चोदाsagi mausi ki chudaipriya didi ki chudaiWww.chudai.ki.kahani.insent.hindi.chhoti.chut.xxxdost ne maa ko chodaबस में लुंड रगडने का अनुभव हिंदी स्टोरीpriti bhabhi ki chudaihindi incest stories